शहीद मेजर कमलेश के प‌िता बोले- पाकिस्तान से हो जाए आर-पार तब आएगी शांति

0
331
Army
मेजर कमलेश पांडे (फोटो साभार- एएनआई)

मेजर कमलेश पांडे के पिता ने कहा कि उन्हें अपने बेटे की शहादत पर गर्व है

जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में आतंकियों से हुई मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए मेजर कमलेश पांडे के पिता मोहन चंद पांडे ने कहा कि पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए एक बार युद्ध हो जाना चाहिए, युद्ध के बगैर भारत में शांति नहीं आ सकती है. उन्होंने सरकार से सवाल किया कि भारत के सपूत यूं ही कब तक अपनी शहादत देते रहेंगे. आंतकी तो मरने के लिए तैयार होते हैं, ऐसे में निर्दोष सैनिक क्यों मारे जा रहे हैं?

मोहन चंद पांडे ने कहा कि कितने बच्चे मारे जाएंगे, जब तक जंग नहीं करेंगे कुछ नहीं होगा. पत्थरबाजों को गोलियां क्यों नहीं मारनी चाहिए? उनपर गोली चलाने का ऑर्डर नहीं होता. ये गलत है. उन्होंने कहा कि कमलेश ने अपना कर्म किया है. उन्हें अपने बेटे की शहादत पर गर्व है. मोहन चंद पांडे ने भी 26 साल तक सेना में रहकर देशसेवा की है. वह थर्ड कुमाऊं रेजीमेंट में तैनात रहे थे. उधर, शहीद हुए मेजर कमलेश पांडे की मौत की खबर सुनकर परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा कि उत्साही और साहसी अधिकारी मेजर कमलेश पांडेय सेना में जून 2012 में शामिल हुए थे. वे उत्तराखंड के अल्मोड़ा के निवासी थे. उनके परिवार में उनकी पत्नी और दो साल की बेटी है.

कालिया ने कहा कि सेना शोक संतप्त परिवारों के साथ एकजुटता से खड़ी है और उनकी गरिमा व कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है. सेना के एक अधिकारी ने कहा कि मेजर कमलेश पांडे के पार्थिव शरीर को पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार के लिए उनके पैतृक स्थल पर ले जाया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here