हेल्थ टिप्स: जादुई है यह काढ़ा, दूर होती हैं 5 गंभीर बीमारियां

0
193
KADHA-A-Magical-Ayurvedic-Formulation-For-ColdSore-ThroatFever

हमारे दैनिक आहार में शामिल होने वाले फलों सब्जियों और अनाज का खास महत्व है। हर तरह का अनाज अपने साथ कुछ खास तरह की विशेषताएं समेटे होता है। इन्हीं में से एक हे अलसी। अलसी में आमेगा-3 फैटी एसिड, प्रोटीन, फाइबर, विटामिन्स और मिनरल पाए जाते हैं। असली के बीज से बना काढ़ा कई बीमारियों मं रामबाण औषधि है। यहां हम पांच प्रमुख बीमारियों के बारे में बता रहें जिनमें अलसी का काढ़ा आजमाया जा सकता है। लेकिन इससे पहले जान से काढ़ा बनाने का तरीका-

कैसे तैयार करें काढ़ा
कूटे हुए दो चम्मच अलसी के बीजों को दो कप पानी में मिक्स करें। बीजों को इस पानी तब तक उबालें जब तक कि पानी एक कप नहीं रहा जाता। अब तैयार काढ़े को छान लें और ठंडा होने पर पिएं।

यह काढ़ा कई बीमारियों में फायदेमंद है। लेकिन यहां दी गई बीमारियों में आज जरूर आजमा सकते हैं-

1- जोड़ों के दर्द में आराम
साइटिका, नस का दबना और घुटनों-जोड़ों में दर्द जैसी समस्याओं में अलसी के काढ़े का नियमितरूप से सेवन फायदेमंद है।

2- थाइरॉएड में असरदार
सुबह खाली पेट अलसी का एक कप काढ़ा हाइपोथाइरॉएड और हाइपरथाइरॉएड दोनों स्थितियों में फायदेमंद है।

3- हार्ट की समस्या में कारगर
नियमित रूप से तीन महीने तक अलसी का काढ़ा पीने से आर्टरीज में ब्लॉकेज दूर होता है और आपको एंजियोप्लास्टी कराने की जरूरत नहीं पड़ती। अलसी में मौजूद ओमेगा-3 शरीर में बुरे कोलेस्ट्रॉल एलडीएल के स्तर को कम करता है और हृदय संबंधी बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

4- पेट की समस्याओं में कारगर
बताया जा रहा है कि नियमित रूप से अलसी का काढ़ा पीने से कब्ज, पेट दर्द, पेट अफरना जैसी समस्याओं में राहत मिलती है।

5- मोटापा करे कम
काढ़ा शरीर में जमा हुई अतिरिक्त वसा को निकालने में मदद करता है, जिससे मोटे होने का खतरा नहीं रहता। अलसी में मौजूद फाइबर भूख को कम करता है और शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है।

ध्यान दें- 

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य व सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here