सावधान: इंटरनेट का ज्यादा इस्तेमाल खराब कर रहा दिमाग

0
220
brain

सावधान हो जाइए। इंटरनेट का अधिक इस्तेमाल आपका दिमाग खराब कर रहा है। इसके चलते लोगों का मानसिक व्यवहार बदल रहा है। एम्स के चिकित्सकों, न्यूरोबायोलॉजिस्ट और एटियोलॉजिकली इल्युसिव डिसऑर्डर रिसर्च नेटवर्क (ईईडीआरन) की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है।

शोध में सामने आया है कि इंटरनेट के अधिक प्रयोग से व्यवहार में समस्या होती है और इसे चिकित्सीय भाषा में न्यूरो कॉगनेटिव डिस्फंक्शन (दिमाग और व्यवहार में असंतुलन)का नाम दिया गया है। इस अध्ययन को सात माह पहले किया गया था।

शोध में इंटरनेट के इस्तेमाल के समय मानव मस्तिष्क की कोशिकाओं में होने वाले बदलाव का अध्ययन किया, जिसमें पाया गया कि अधिक समय से यही स्थिति बने रहने पर कोशिकाएं क्रिया प्रतिक्रिया देना बंद कर देती हैं।

शोध में कहा गया है कि इंटरनेट का अधिक इस्तेमाल बच्चों और युवाओं के लिए खतरनाक है। एम्स के क्लीनिकल न्यूरोबायोलॉजिस्ट मुनीफ फायक का कहना है कि दिमाग का जानकारी को एकत्रित करने का अपना तरीका होता है। दिमाग जाग्रत अवस्था में सूचनाओं को एकत्र करता है लेकिन इंटरनेट पर हमको लगातार ताबड़तोड़ जानकारियां मिलती है। इनमें से बड़ी तादाद में मिलने वाली जानकारी बेकार होती है।

उन्होंने बताया कि जब भूख लगती है तो ब्रेन हमें सिग्नल देता है, उसी तरह हमें क्या पसंद है और क्या नापसंद है उसका भी सिग्नल देता है। जब ब्रेन के न्यूरॉन्स को सिग्नल मिलता है तो वह उसे आगे भेजा करता है, तब इंसान प्रतिक्रिया देता है। लेकिन इंटरनेट के इस्तेमाल से न्यूरॉन्स को संदेश देर से मिलता है, जिससे याददाश्त कमजोर,चिड़चिड़ापन और किसी बात पर जुनूनी हो जाना जैसी शिकायतें सामने आती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here